राज्यमंत्री बामनिया ने की विभागीय गतिविधियों की समीक्षा जनजाति अंचल में परंपरागत खेल प्रतियोगिताओं को दें बढ़ावा – बामनिया.

जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के राज्यमंत्री अर्जुन सिंह बामनिया ने कहा है कि जनजाति उपयोजना क्षेत्र में परंपरागत खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाए और इनके माध्यम से यहां की खेल प्रतिभाओं को तराश कर जिला, राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर खेल कौशल उद्घाटित करने का मौका दिया जाए।

राज्यमंत्री बामनिया बुधवार को यहां माणिक्यलाल वर्मा आदिमजाति शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान में विभागीय कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए संबोधित कर रहे थे।

बामनिया ने कहा कि राज्य सरकार जनजाति अंचल के समग्र विकास के लिए प्रतिबद्ध है ऐसे में विभाग द्वारा क्षेत्रीय विकास के लिए स्वीकृत होने वाली राशि का पूरा-पूरा उपयोग सुनिश्चित हो।

उन्होंने बैठक दौरान जनजाति क्षेत्रीय विकास मद से स्वीकृत विभिन्न निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए इनकी गुणवत्ता के लिए निर्देश दिए वहीं विभाग की शैक्षिक प्रोत्साहन योजनाओं की समीक्षा दौरान उन्होंने पात्र शैक्षिक प्रतिभाओं को समय पर राशि उपलब्ध कराने को कहा।

इस दौरान उन्होंने विभाग की खेल गतिविधियों पर विशेष ध्यान देने की बात की और कहा कि नई गतिविधियों को प्रारंभ करने और इनके माध्यम से विभिन्न स्तर की गतिविधियों के लिए उचित प्रमाण पत्र जारी कर खेल प्रतिभाओं का उनका लाभ विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में दिलाने की व्यवस्था करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।

बैठक के आरंभ में जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के आयुक्त जितेन्द्र कुमार उपाध्याय ने राज्यमंत्री का स्वागत किया और विभाग की समग्र वैकासिक प्रगति से अवगत कराया। उन्होंने अंचल के सर्वतोमुखी विकास के लिए विभाग द्वारा स्वीकृत की गई धनराशि के लोकहित में उपयोग की प्रतिबद्धता जताई और हर पात्र को इसका लाभ दिलाने को आश्वस्त किया। 
जनसुनवाई व कई विषयों की समीक्षा:

बैठक दौरान राज्यमंत्री बामनिया ने माणिक्यलाल वर्मा आदिमजाति शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान की पीएचडी स्कॉलर्स की गतिविधियों, राजस संघ के कार्यों के साथ ही टीएडी के माध्यम से कोरोना महामारी दौरान मिनी किट वितरण की समीक्षा करते हुए प्रगति की जानकारी ली। इस दौरान सभागार में जनसुनवाई भी हुई जिसमें बड़ी संख्या में सामाजिक कार्यकर्त्ताओं ने राज्यमंत्री बामनिया का स्वागत किया और अपनी परिवेदनाएं सौंपी।

इससे पूर्व राज्यमंत्री बामनिया राजसमंद भी पहुंचे और वहां पर जिला कलक्टर, उप वन संरक्षक और संबंधित अधिकारियों से मुलाकात कर विभागीय गतिविधियों का फिडबैक लिया।

बैठक में मुख्य वन संरक्षक आर.के.सिंह, टीएडी उपायुक्त वीसी गर्ग, राजस संघ के अधिकारियों के साथ राज्यमंत्री के निजी सहायक जयेश पुरोहित व संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।    

Related

JOIN THE DISCUSSION

nine + one =