‘‘मैं चेतन देवड़ा,टीम उदयपुर का नया मेंबर’’.

परिचय में ही प्रोत्साहन, समीक्षा के साथ दिया संवेदनशीलता का डोज़

‘‘मैं चेतन देवड़ा, टीम उदयपुर का नया मंेंबर…’’ इन चंद शब्दों के साथ उदयपुर के नए कलक्टर चेतन देवड़ा ने शुक्रवार अपराह्न विभागीय अधिकारियों की बैठक को अपने परिचय के साथ शुरूआत से अधिकारियों को जहां मिलजुलकर कार्य करने की मंशा उजागर कर प्रोत्साहित किया वहीं आमजनता को राहत देने के विषयों पर संवेदनशील होकर प्रतिबद्ध कार्य कर पूरा करने के निर्देश दिए।

जिला परिषद सभागार में आयोजित विभागीय समीक्षा बैठक में कलक्टर देवड़ा ने तीन घंटे से अधिक समय तक एक-एक विभागीय अधिकारी से व्यक्तिगत संवाद किया और परिचय के साथ विभागीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा करते हुए कमियों पर महत्त्वपूर्ण निर्देश दिए।

बैठक में नगरनिगम आयुक्त और स्मार्टसिटी सीईओ कमर चौधरी, जिला परिषद सीईओ डॉ. मंजू, अतिरिक्त जिला कलक्टर ओ.पी.बुनकर व संजय कुमार, यूआईटी सचिव अरूण हसीजा, एडीएसपी गोपालस्वरूप् मेवाड़ा सहित समस्त विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

लापरवाही नहीं रखेंगें, लगातार मॉनिटरिंग करेंगे:

बैठक दौरान अपने संबोधन में कलक्टर देवड़ा ने कहा कि उदयपुर में प्रशासनिक व विभागीय टीम अच्छी है ऐसे में प्रयास रहेगा कि लोगों को समय पर बेहतर सुविधाएं और सरकार की योजनाओं का लाभ प्राप्त हो।

उन्होंने कहा कि इस कार्य में कोई लापरवाही नहीं रखेंगे व नियमित मॉनिटरिंग कर बेहतर करेंगे। उन्होंने अधिकारियों को विकास कार्यों का लगातार फॉलोअप करने और सरकार के निर्देशों के अनुरूप इनका लाभ क्षेत्रवासियों को दिलाने के लिए पूरे जज्बे के साथ कार्य करने के निर्देश भी दिए।

एक्शन मोड में दिखे कलक्टर:

कलक्टर देवड़ा बैठक में एक्शन मोड में नजर आये। परिचयात्मक बैठक में भी उन्होंने कुछ विभागों की कमियों को बातों-बातों में ही पकड़ लिया और उनको तल्ख लहजे में इसे सुधारने की सलाह भी दी।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की समीक्षा करते हुए जब विभागीय अधिकारी ने कहा कि पालनहार योजना में जिले के 17 ब्लॉक मात्र 10 प्रकरण पेंडिंग हैं जो कि पिछले दो या तीन दिनों में आए हुए हैं।

इस पर कलक्टर देवड़ा ने कहा कि इन दिनों लॉकडाउन के बाद से लंबे समय से स्कूल बंद हैं ऐसे में बच्चों से संबंधित इस योजना में ये प्रकरण कैसे पंेडिंग हैं ? निरूत्तर विभागीय अधिकारी को उन्होंने कहा कि एक गरीब परिवार के लिए 2 हजार की राशि मायने रखती है।

ऐसे में वे इन प्रकरणों को व्यक्तिगत रूप से देखें और इनमें पात्र को लाभ दिलावें।

Related

JOIN THE DISCUSSION

6 + 17 =