मिशन इन्द्रधनुष 2.0 का हुआ आगाज,पूर्व में टीकाकरण से वंचित नवजात बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को मिलेगा लाभ.

देश भर में चल रहे राष्ट्रीय कार्यक्रम कार्यक्रम अंतर्गत जिले में टीकाकरण से वंचित बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को जानलेवा बीमारियों से बचाने एवं बेहतर स्वास्थ्य हेतु मिशन इन्द्रधनुष 2.0 अभियान का शुभारंभ 2 दिसंबर से हो गया है, जिसमें विशेष प्रकार के 7 टीके लगाए जाएंगे।

अभियान की सफल क्रियान्विति, व्यापक प्रचार-प्रसार, जनजागरूकता एवं शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने के उद्देश्य से मंगलवार को एमबी चिकित्सालय के बाल चिकित्सालय में सभागार में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया।

प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए चिकित्सालय अधीक्षक एवं आरएनटी प्राचार्य डाॅ. लाखन पोसवाल ने बताया कि यह एक अच्छा मौका है, जिसका लाभ उठाकर नवजात शिशु एवं गर्भवती महिलाएं सुरक्षित व निरोगी रह सकते हैं।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण कार्यक्रम के तहत सभी उपलब्ध वैक्सीन सुरक्षित व उत्तम गुणवत्ता युक्त है तथा प्रशिक्षित एएनएन द्वारा दी जाती है। अगर दुबारा लग जाए तो भी कोई नुकसान नहीं होता। उन्होंने इसके लिए लोगों को जागरूक होकर एवं अन्य को प्रेरित करते हुए इसका अधिक से अधिक लाभ उठाने का आह्वान किया।

प्रेसवार्ता में सीएमएचओ डाॅ. दिनेश खराड़ी ने बताया कि स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत बनाकर पूर्ण टीकाकरण के लक्ष्य को बनाए रखना इस कार्यक्रम का उद्देश्य है।

इस कार्यक्रम के अंतर्गत सभी उपलब्ध वैक्सीन सरकारी चिकित्सा संस्थानों में निःशुल्क उपलब्ध है।

उन्होंने बताया कि यह अभियान दिसंबर से मार्च महिने तक हर माह के प्रथम सोमवार को चलाया जाएगा।

इसके तहत अभियान के पहले सोमवार 2 दिसंबर को 396 बच्चों एवं 155 महिलाओं को कवर किया है। उन्होंने अभियान के तहत वंचित रहे पात्रजनों को आगामी 6 जनवरी, 3 फरवरी व 2 मार्च को आयोजित टीकाकरण कार्यक्रम में लाभान्वित होने का आह्वान किया।

आरसीएचओ डाॅ. अशोक आदित्य के अभियान के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए पूर्व की उपलब्धियों के बारे में बताया। अभियान से जुड़े डाॅ. अक्षय व्यास ने पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से तकनीकी पहलुओं एवं गतिविधियों के आरे में जानकारी दी।

Related

JOIN THE DISCUSSION

18 − ten =